शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के प्रांत संयोजकों की दो दिवसीय बैठक 25 से 

On
शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के प्रांत संयोजकों की दो दिवसीय बैठक 25 से 


जयपुर। शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के प्रांत संयोजकों और सह संयोजकों की दो दिवसीय बैठक 25 दिसंबर से अग्रवाल पीजी महाविद्यालय, जयपुर में होगी। बैठक में 25 से अधिक विश्वविद्यालयों के कुलपति भी उपस्थित रहेंगे।  
न्यास के राष्ट्रीय सह संयोजक और मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी के संचालक अशोक कड़ेल ने शनिवार विश्व संवाद केंद्र पर आयोजित पत्रकार वार्ता में बैठक के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 24 दिसंबर को संचालक मंडल की बैठक होगी। वहीं 25 और 26 दिसंबर को प्रांत संयोजकों, सह संयोजकों और प्रमुख कार्यकर्ताओं की बैठक होगी। उन्होंने कहा कि प्रांत संयोजक बैठक हमारी महत्वपूर्ण बैठक होती है। प्रांत संयोजक इसमें आगे की योजना पर चर्चा करते हैं। 
उन्होंने बताय कि 26 दिसंबर को सायं 5 बजे अग्रवाल पीजी कॉलेज में “ शिक्षा में भारतीयता और व्यवस्था परिवर्तन” विषय पर एक प्रबुद्धजन गोष्ठी का आयोजन भी किया जाएगा। गोष्ठी के मुख्य वक्ता शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के सचिव अतुल भाई कोठारी होंगे। वहीं संगोष्ठी की अध्यक्षता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले करेंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष वासुदेव देवनानी उपस्थित रहेंगे। 
कड़ेल ने कहा न्यास वर्तमान में 16 विषयों को लेकर काम कर रहा है। हमारे लिए खुशी की बात है 2020 में राष्ट्रीय शिक्षा नीति घोषित हुई। बहुत लंबे समय के बाद में भारत केंद्रित और समग्र शिक्षा नीति आई। इसमें भारतीय परंपरागत ज्ञान के साथ-साथ आधुनिक ज्ञान का समन्वय है। उन्होंने कहा कि न्यास ने 2011 में ही शिक्षा में परिवर्तन क्या होने चाहिए, इस दिशा में काम प्रारंभ किया था। न्यास के कई सुझाव राष्ट्रीय शिक्षा नीति में शामिल किए गए। 
उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति देश में किस तरह से और अच्छे से लागू हो, इस पर सेमिनार और संगोष्ठियां आयोजित कर रहे हैं। शिक्षा नीति नीचे विद्यालयों और महाविद्यालयों तक उतरे ताकि इसका लाभ छात्रों को मिले, इसके लिए एक अभियान न्यास ने शुरू किया है। बैठक में शिक्षा से आत्मनिर्भर भारत विषय पर भी चर्चा होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्म निर्भर भारत का कांस्टेप्ट देश के सामने रखा है। इस दिशा में सार्थक प्रयास भी हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के माध्यम से विद्यार्थी और युवा किस तरह से आत्मनिर्भर बन सकते हैं, ऐसे प्रयास शिक्षण संस्थानों के माध्यम से शुरू किए है। युवा नौकरी के पीछे भागने वाला ही नहीं बने बल्कि वह रोजगार देने वाला बनें, इस दिशा में भी काम शुरू किया है। 
उल्लेखनीय है कि शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास का कार्य 2004 में शिक्षा बचाओं आंदोलन के रूप में शुरू हुआ था। उस समय ध्यान में आया था कि शिक्षा में कुछ बातें जानबूझकर यहां की संस्कृति, सभ्यता और देवी- देवताओं के लिए गलत तरीके फैलाई जा रही है। इन्हीं बातों को ठीक करने के लिए शिक्षा बचाओं आंदोलन प्रारंभ हुआ था।

About The Author

Post Comment

Comment List

Latest News

मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने नरेन्द्र सिंह की जानी कुशलक्षेम मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने नरेन्द्र सिंह की जानी कुशलक्षेम
दिखाते हुए बैंक लूट की वारदात को नाकाम किया था कैशियर नरेन्द्र ने
अमृत 2.0 मिशन- विस्तृत परियोजना रिपोर्ट शीघ्र प्रस्तुत करें - समित शर्मा
राजस्थान प्रशासनिक सेवा व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक तबादला सूची जारी
भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता और पैनलिस्ट की घोषणा!!
‘Rose Show-2024’ में 500 से अधिक किस्म के गुलाबों की प्रदर्शनी ने लुभाया सभी का मन 
समाचार पत्रों और पत्रिकाओं का पंजीकरण अब प्रेस सेवा पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन होगा
भाजपा के प्रदेश प्रकोष्ठों के संयोजक नियुक्त