गायक कलाकार पंकज उधास का 72 की उम्र में निधन

On
गायक कलाकार पंकज उधास का 72 की उम्र में निधन

मनोरंजन जगत से लगातार बुरी खबरें सामने आ रही हैं। हाल ही में इस इंडस्ट्री ने कई नायाब चेहरों को खोया है। और अब गजलों को फिल्मों में पॉप्युलर बनाने के लिए जाने जाने वाले पंकज उधास भी अब नहीं रहे। उनका यूं दुनिया को अचानक छोड़कर जाना, हर किसी के लिए किसी सदमे से कम नहीं है। फैन्स और चाहने वाले उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं। उनकी बेटी नायाब उधास ने सोशल मीडियो पर एक पोस्ट के जरिए पिता की मौत की जानकारी दी है।

ना कजरे की धार', 'चिट्ठी आई है...', 'चांदी जैसा रंग है तेरा' जैसे न जाने कितने गानों को अपनी आवाज देने वाले सिंगर और पद्मश्री से सम्मानित पंकज उधास का निधन हो गया है। उनकी उम्र 72 साल थी। बेटी ने इस खबर की पुष्टि की है। बताया है कि वह लंबे समय से बीमार थे। उनकी तबीयत काफी दिनों से खराब थी। कैंसर से जूझ रहे थे।

Read More जल्द ही खुलेंगे राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन में लगे ताले -जयदीप बिहानी

नयाब उधास ने लिखा, 'भारी दिल के साथ आप सभी को ये दुखद समाद देना पड़ रहा है कि पद्मश्री पंकज उधास अब नहीं रहे। उन्होंने 26 फरवरी, 2024 को अंतिम सांस ली। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे।'
रिपोर्ट के अनुसार, पंकज उधास के पीआर ने बताया है कि सिंगर का निधन 26 फरवरी की सुबह 11 बजे के करीब हुआ है। वह मुंबई के कैंडी अस्पताल में भर्ती थे। वहीं उन्होंने आखिरी सांस ली। लंबे समय से उनकी तबीयत ठीक नहीं चल रही थी। साल 1980 में गजल एल्बम 'आहट' से पंकज उधास चर्चा में आए थे। उन्हें हिंदी सिनेमा और भारतीय पॉप म्यूजिक में अहम योगदान के लिए जाना जाता है। इन्हें 2006 में पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था।

Read More राजस्थान के लोकसभा प्रत्याशियों की सूची।

पंकज भले ही सिंगर हो लेकिन उनकी प्रेम कहानी बेहद फिल्मी रही है. चलिए आज उनकी लव स्टोरी के बारे में जानते हैं.

Read More रोहित गोदारा / लॉरेंस गिरोह को फर्जी पासपोर्ट द्वारा विदेश भेजने वाले मुख्य सरगना गिरफ़्तार

पंकज की लव स्टोरी की शुरुआत 70 के दशक में हुई थी. उनकी लव स्टोरी में उनके पड़ोसी का बहुत बड़ा हाथ रहा है. दरअसल, पंकज उधास की उनकी पत्नी फरीदा से पहली मुलाकात उनके पड़ोसी ने ही कराई थी. उस वक्त पंकज उधास ग्रैजुएशन कर रहे थे. वहीं, फरीदा एक एयरहोस्टेस थीं.
पड़ोसी से कराई मुलाकात में पंकज और फरीदा की दोस्ती हो गई थी. इसके बाद दोनों की मुलाकातों का दौर शुरू हुआ. लगातार एक दूसरे के साथ वक्त बिताने के बाद दोनों एक दूसरे के करीब आ गए और एक दूसरे को दिल दे बैठे।
दोनों ने जल्द ही शादी करने का फैसला ले लिया था. लेकिन दोनों के बीच धर्म की दीवार आ खड़ी हुई थी. दरअसल, पंकज उधास हिंदू थे और फरीदा पारसी परिवरा से ताल्लुक रखती थीं. ऐसे में दोनों की शादी में परेशानी आ गई थी.
पंकज की फैमिली इस रिश्ते सा राजी थी लेकिन फरीदा के घरवालों उनकी इस शादी से खुश नहीं थे. लेकिन यहां पंकज दोनों परिवारो की रजामंदी से ही अपना घर बसाना चाहते थे. इसलिए दोनों ने तय की किया जब दोनों परिवार राजी होंगे तभी शादी करेंगे. हालांकि, कुछ समय बाद फरीदा के घरवालों ने भी शादी के लिए हामी भर दी और दोनों ने शादी कर ली.उनकी दो बेटियां हैं।

बता दें कि, पंकज उधास के तीन भाई हैं. पंकज इन तीनों में सबसे छोटे थे. उनके दोनों भाई मनहर उधास और निर्मल उधास म्यूजिक फील्ड मे ही हैं. इसलिए पंकज का रुझान भी इसी तरफ गया. पंकज ने अपने करियर में कई हिट गाने गाए हैं. चिट्टी आई है गाना उनका अबतक के सबसे मशहूर गाने में से एक है.

About The Author

Post Comment

Comment List

Latest News