नई शिक्षा नीति में अनुसंधान व शोध पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत—कलराज मिश्र

By Desk
On
   नई शिक्षा नीति में अनुसंधान व शोध पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत—कलराज मिश्र

अजमेर । राजस्थान की महर्षि दयानंद सरस्वती यूनिवर्सिटी, अजमेर का 11वां दीक्षान्त समारोह राज्यपाल कलराज मिश्र की अध्यक्षता में शनिवार को आयोजित किया गया। समारोह में 45 स्वर्ण पदक, एक कुलाधिपति पदक तथा 165 पीएचडी, 98 हजार 979 उपाधियां वितरित की गई। मंच पर विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी, विशिष्ट अतिथि उपमुख्यमंत्री प्रेमचंद बैरवा व जल संसाधन मंत्री सुरेश रावत, कुलपति प्रो. अनिल कुमार शुक्ला आदि मौजूद रहे।

राज्यपाल कलराज मिश्र ने दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए महर्षि दयानंद सरस्वती के बताए आदर्श को जीवन में उतारने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हमें नई शिक्षा नीति में अनुसंधान व शोध पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है। साथ ही रोजगार पैदा करने की क्षमता रखने वाली शिक्षा हो। शिक्षा ऐसी हो, जिसमें बेहतर मानव संसाधन तैयार हो। युवा शक्ति मेक इन इंडिया की तरफ आगे बढे़। प्राचाीन ज्ञान पर ध्यान दे और गुलामी की मानसिकता वाली शिक्षा से बाहर निकले। युवा शक्ति का सर्वांगीण विकास की राह आसान हो। ज्ञान के साथ अर्थ का भी योग हो। समारोह में राज्यपाल ने सबसे पहले पीएचडी धारको को प्रमाण पत्र सौंपे। राज्यपाल मिश्र ने सभी से आग्रह किया कि वाणी, चर्या व व्यवहार से अपने आपको उपाधि के योग्य साबित करेंगे।

Read More  विश्वविद्यालय युवाओं को नवाचारों से जोड़ते हुए शोध की मौलिक भारतीय दृष्टि से संपन्न करे - राज्यपाल

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष व अजमेर उत्तर विधायक वासुदेव देवनानी ने कहा कि शिक्षा से जीवन को कितना सार्थक कर सकते है, इस पर चिंतन जरूरी है। आज शिक्षित अधिक व दीक्षित कम है। भारत विश्व गुरु बनेगा और इसके लिए जीवन में कुछ मूल्य जरूरी है। राष्ट्र प्रथम का भाव जगाने वाले स्वामी दयानंद सरस्वती के नाम से यूनिवर्सिटी में भवन भी महापुरुषों के नाम से है, जो अनूठा है। उन्होंने पहले कुलपति पुरुषोत्तम चतुर्वेदी को भी याद किया। साथ ही नई शिक्षा नीति की सराहना की।

Read More  उपभोक्ता हितों के प्रति सजग व प्रतिबद्ध है राज्य सरकार : मंत्री सुमित गोदारा

इससे पहले अजमेर पहुंचने पर उन्होंने यहां संविधान पार्क का लोकार्पण किया। करीब 2.5 करोड़ से बने पार्क में संविधान की उद्देशिका, पट्टिकाएं, प्रतिमा व अन्य निर्माण हुए हैं। इनमें संविधान निर्माताओं की प्रतिमा भी लगाई गई है। इसके बाद वे सभागार में पहुंचे। राष्ट्र गान के बाद सरस्वती वंदना की गई। राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि सबसे पहले बेटियों को बधाई देता हूं, जिनकी संख्या ज्यादा रही। उन्होंने कहा कि स्वर्ण पदक 46 थे, इसमें 25 यानि 55 फीसदी छात्राएं रही। इसी प्रकार पीएचडी में 165 में 89 छात्राएं यानि 54 प्रतिशत रही।
 

Read More  भजनलाल सरकार का पहला बजट, शुरुआत में विपक्ष की टोका-टाकी

Tags:

About The Author

Post Comment

Comment List

Latest News

  न्याय संहिता से त्वरित न्याय मिलेगा और विश्वास भी बढ़ेगा- राजेंद्र शुक्ल न्याय संहिता से त्वरित न्याय मिलेगा और विश्वास भी बढ़ेगा- राजेंद्र शुक्ल
भाेपाल । भारतीय जनता पार्टी विधि प्रकोष्ठ द्वारा शनिवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में दण्ड संहिता से न्याय संहिता की...
10वीं-12वीं स्टेट ओपन परीक्षा में बड़े फर्जीवाडे का खुलासाः डमी अभ्यर्थी के रूप में परीक्षा देते बीस को पकड़ा
विदेशी ताकतों के कारण भी हमें लाेकसभा चुनाव में कम सीटें मिली : सहस्त्रबुद्धे
जी-7 व्यापार मंत्रियों की बैठक में भाग लेने रेजियो कैलाब्रिया का दौरे करेंगे गोयल
हरीश रावत ने काजी निजामुद्दीन को जीत की बधाई दी
वर्ल्ड स्काईडाइविंग डेः केंद्रीय पर्यटन मंत्री शेखावत ने उड़ते विमान से लगाई छलांग
छात्रसंघ राजनीति की पहली पाठशाला : गहलाेत